You are currently viewing एटीएम का फुल फॉर्म क्या है और Atm क्या होता है (What is ATM)

एटीएम का फुल फॉर्म क्या है और Atm क्या होता है (What is ATM)

आपको पता है एटीएम का फुल फॉर्म क्या होता है. बहुत बार आपने ATM इस्तेमाल किया होगा. लेकिन कभी एटीएम का फुल फॉर्म जानने की कोशिस की है. मेरे खयाल से 90 percent लोगों कोशीस ही नहीं की होगा.

इस में ना आपकी गलती है ना हमारी. कोई क्यू याद रखना चाहेगा Atm ka full form. लेकिन आज भी बहुत सारे लोग ऐसे भी है. जिनको Atm ka full meaning जानना पसंद है. तो यह Article उन लोगों के लिए बनाया गया है.

आप इस Article का पूरा आनंद उठा सकते हो.

एटीएम का फुल फॉर्म क्या होता है (Full form of ATM)

जैसा आप ATM नाम सुनते होंगे तो आपके दिमाग में Any Time Money आता है. लेकिन ATM ka Full Form Any Time Money नहीं है. एटीएम का फुल फॉर्म Automated Teller Machine होता है.

अगर आपको ये Article पड़ने के बाद कोई पूछे की ATM ka Full Form क्या होता है. तो आप उसे बता देना.

आम तोर पर हमे ऐसे कुछ चिजोके full form School या Collage में नहीं सिखाये जाते. इस लिए बहुत लोगों को फुल फॉर्म पता ही नहीं होते है.

A – Automated

T – Teller

M – Machine

एटीएम का फुल फॉर्म हिंदी में क्या होता है (Full form of ATM in Hindi)

अभी तक आपने जो एटीएम का फुल फॉर्म देखा वो इंग्लिश में था. अब हम उसीको हिंदी भाषा में क्या कहते है यह देखेंगे. ATM ka Full Form स्वचालित टेलर मशीन होता है.

A – स्वचालित

T – टेलर

M – मशीन

ये भी पड़े

एटीएम (ATM) क्या है? (What is ATM)

एटीएम क्या है ये सवाल Exam में बहुत बार पूछा जाता है. लेकिन इसका जवाब बहुत काम लोग दे पाते है. तो आज में आपको एटीएम क्या है ये बताऊंगा. ये 24 घंटे एटीएम से पैसे निकलने और जमा करने की सेवा प्रदान करता है.

भारत में सभी व्यापारिक बैंक जैसे स्टेट बैंक, इलाहाबाद बैंक, आई. सी. आई बैंक, के द्वारा यह सुविधा आपको प्रदान किए जाती है. एटीएम में एक गुप्त Pin होता है. जिसकी मदत से आप एटीएम में पैसे डाल या निकाल सकते है.

आपको तो पता होगा की एटीएम का इस्तेमाल करने के लिए ATM Card होना जरूरी होता है. गाव में ATM Card को Debit Card / Credit Card भी बोला जाता है. अगर आपको Debit Card का इस्तेमाल करना है तो आपको बैंक में एक अकाउंट बनाना होगा.

उसीके बाद आप Debit / Credit Card का इस्तेमाल कर पावोगे.

ATM Card

ATM Card एक ऐसा कार्ड है की जिसके मदत से हम एटीएम मशीन से पैसे निकल सकते है. इस ATM Card में किसी भी प्रकार की Category नहीं होती है. जैसे की हमारे बाकी कार्ड पर Rupay, Visa और MasterCard लिखा होता है.

इस कार्ड के मदत से आप सिर्फ एटीएम मशीन से पैसे निकल सकते हो. किसी को भेज नहीं कर सकते. साथ ही साथ आप इससे Online Payment भी नहीं कर सकते है. और बहुत ज्यादा मदत पड़ने पर भी बैंक से पैसे उधार नहीं ले सकते.

इस कार्ड का उपयोग आप एटीएम मशीन से पैसे निकालने के लिए ही कर सकते हो.

Debit Card

Debit Card देखने में सेम ATM Card के तरह होता है. लेकिन इस में फर्क सिर्फ इतना है की Debit Card पर Rupay, Visa और MasterCard लिखा होता है. इस कार्ड के मदत से आप एटीएम मशीन से पैसे निकल सकते है. और Online पैसे भी भेज सकते हो.

आप इसका इस्तेमाल Swap Card मशीन में भी कर सकते हो. ये सबसे बड़ा फरक होता है ATM और Debit Card में.

Credit Card

शायद ये Credit Card आपके पास हो सकता है और कुछ लोगों के पास नहीं. क्युकी ये कार्ड कुछ ही लोगों को मिलता है. इस Credit Card के मदत से आप कुछ टाइम के लिए पैसे बैंक से उधार ले सकते हो.

जब भी आपके बैंक अकाउंट में पैसे आ जायेंगे तब आपके अकाउंट के उधार लिए हुवे पैसे कट जायेंगे. साथ ही साथ कुछ Charge भी कट सकता है. अभी तक आपने एटीएम का फुल फॉर्म जाना है. अब इसका आविष्कार किसने किया ये भी जान लो.

एटीएम कार्ड का आविष्कार किसने किया? (Who Invented ATM)

एटीएम कार्ड का आविष्कार जाँन शेफर्ड बैरन ने 27 जून 1967 में किया था. खास बात ये है की जाँन शेफर्ड बैरन का नाता भारत से था. दरअसल, जाँन शेफर्ड का जन्म 23 जून, 1925 को भारत में मेघालय के शिलाँग हुवा था.

स्कॉटलैंड से ताल्लुक रखने वाले जाँन शेफर्ड बैरन के पिता उस समय उत्तरी बंगाल में चटगांव पोर्ट कमीशनर के चीफ इजीनियर थे. एक बार वो बैंक पहुच ने से पहले ही बैंक बंद हो गया था.

तो उनहोंने सोचा की यदि चाँकलेट निकलने वाली वेडिंग मशीन की तरह पैसे निकलने वाली वेडिंग मशीन भी हो. जिससे 24 घंटे में पैसे निकाले जा सके, तो कितनी आसानी हो सकती है.

बस फिर क्या था, बैरन ने कड़ी मेहनत करके आखिर कर एक एटीएम मशीन का आविष्कार कर दिया. इस खोज ने इंसानी और पैसे का खेल ही बदल दिया. 27 जून, 1967 में दुनिया का सबसे पहला एटीएम मशीन लगाया गया.

ATM के प्रकार कितने होते है?

1. White label ATMs –

White label ATMs एक third part एटीएम होता है. ये आपके बैंक के atm नहीं होते है. चाहे तो आप भी apply करके एक atm डाल सकते हो. लेकिन अभी कुछ लोग इसको चला रहे है.

Example – Tata Communication Payment Solution, Muthoot Finance, Prizm Payment Service, और Vakrangee Ltd. इन सबको RBI ने Allow करा है. अगर इनको atm खोलना होगा तो बैंक से बहुत दूर खोल सकते है नजदीक नहीं.

2. Brown label ATMs –

Brown label ATMs में भी वैसा ही होता है जैसे White label ATMs में. बस थोडा फरक है. इसमें एटीएम मशीन third party की होती है और पैसे, network बैंक का होता है.

3. Green label ATMs –

ये एटीएम agricultural से related होता है. यानी इसके सिर्फ किसान ही पैसे निकल सकते है.

4.Orange label ATMs –

इसकी सुविधा सिर्फ Share Transaction के लिए ही available है.

5. Yellow label ATMs –

इसका उपयोग E-Commerce के लोग ही कर सकते है.

6. Pink label ATMs –

इस एटीएम का उपयोग सिर्फ महिला ही कर सकती है.

आज आपने क्या सिखा –

आज आपने एटीएम का फुल फॉर्म हिंदी में और इंग्लिश में क्या होता है ये सिखा. उसके बाद एटीएम क्या होता है ये भी जाना. फिर एटीएम मशीन का आविष्कार किसने किया ये देखा. और आखिर में एटीएम के प्रकार भी देखे.

अगर आपको हमारा एटीएम का फुल फॉर्म पर लिखा हुवा Article पसंद आया हो तो इसे दोस्तों के साथ शेयर करे.

Omkar Pandit

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम Omkar Pandit है और में इस वेबसाइट का Owner हु. अगर आपको मेरे लिखे हुवे Article पसंद आये हो तो इसे आपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे.

Leave a Reply