You are currently viewing EMI Ka full form in hindi – EMI Kya Hai

EMI Ka full form in hindi – EMI Kya Hai

दोस्तों Car Loan लेना हो या Education Loan सबसे कम में EMI आता है. EMI Ka full form Equated Monthly Installment होता है. आखिर ई एम आई क्या होता है. क्यू इसे बैंक ने बनाया गया है.

E – Equated

M – Monthly

I – Installment

क्या क्या इसकी Requirement होती है. ई एम आई कैसे Calculate कर सकते है. साडी बाते हम इस Article में जानेंगे. तो चलो सुरु करते है.

EMI Ka Full Form in English

EMI Ka Full Form Equated Monthly Installment होता है. उसीको हिंदी में मासिक किस्त भी कहाँ जाता है. मान लीजियेगा की आपने लोग लिया है तो आपको उसको चुकाना भी पड़ता है. लेकिन आपको कब कितना पैसा चुकाना है. ये काम EMI के द्वारा किया जाता है.

ये भी पड़े

EMI Kya Hai (What is EMI)

EMI Kya Hai
EMI Kya Hai

ई एम आई का मतलब मासिक किस्त होता है. मानो अगर आपने बैंक से १ लाख रुपये का Loan लिया है. Loan चुकाने के टाइम कभी कबार आपके पास देने के लिए १ लाख रुपये नहीं होते है. इस लिए EMI का उपयोग किया जाता है.

ताकि बैंक से लिए हुवे पैसे को आप Monthly चूका सके. उधाहरण के तोर पर, यदी आप या कोई व्यक्ती लोन लेता है तो उनको सारे पैसे एक साथ मिल जाते है. लेकिन जब आपको लोन चुकाना होता है तो आप एक साथ सारे रुपये को चूका नहीं सकते है.

इसलिए इसे आसान बनाने के लिए बैंक आपको ई एम आई का ऑप्शन देता है. जिसके जरिये हर महीने भुकतान करके अपने लोन को आसानीसे चूका सकते है. किसी लोन को चुकाने या सामान को खरीदने पर जो सामान मासिक किस्त को किया जाता है.

इसके तहत जिस राशि का भुकतान किया जाता है उसे ई एम आई (EMI) कहते है. ई एम आई चुकाते समय आपको मूल अलावा ब्याज भी शामिल होती है. अर्थात जो आपको मासिक किश्त देनी होती है. उसमें ब्याज के रुपये को भी जोड़ा गया होता है.

इस लिए बहुत सारे लोग EMI Ka Full Form और EMI Kya Hai ये जानना चाहते है.

No Cost EMI क्या होता है?

जब भी आप ऑनलाइन शोपिंग करते है तब आपको Product पर No Cost EMI लिखा हुवा दिखता है. तब आप लोग ये सोचते होंगे की आखिर No Cost EMI क्या होता है. और होता है तो इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है.

जब भी आप Product खरीदते है तो उसपर No Cost EMI लिखा होता है. इसका मतलब उस Product का जोभी Price होता है उसी Price में आपको EMI Pay करना पड़ता है. लेकिन आपसे किसी भी प्रकार का Extra Charge नहीं लिया जायेगा.

इस चीज को No Cost EMI कहाँ जाता है. उधाहरण के तोर पर आप मोबाइल फ़ोन खरीद रहे है. उसका Price १०००० रुपये है तो आपको उसी १०००० रुपये को Free EMI के द्वारा Pay करना पड़ता है. लेकिन इसके लिए आपके पास Credit Card होना पड़ता है.

तभी आप ई एम आई से Pay कर सकते हो. अब हम देखेंगे की ई एम आई से ग्राहक, बैंक और कंपनी को कैसे फायदा होता है.

१. सबसे पहले इसका ग्राहक को बहुत बड़ा फायदा होता है. मानो अगर आपको १०००० रुपये का मोबाइल फोन ख़रीदना है. लेकिन आपके पास ४००० रुपये ही है तब भी आप उस मोबाइल फ़ोन को खरीद सकते है.

२. इसमें कंपनी का बहुत बड़ा फायदा होता है क्युकी कंपनी उसी Product पर No Cost EMI लगाती है. जिस Product की Demand बहुत कम होती है. यानी वो Product सेल नहीं हो रहे होते है. तो कंपनी उसकर No EMI का Option दे देती है.

३. इससे बैंक को भी फायदा होता है क्युकी इसमें बैंक का Credit Card इस्तेमाल किया जाता है. जैसे ही आप Credit Card इस्तेमाल करते है तो वैसे ही बैंक उसका Bill बनाता है. साथी ही साथ उसके कुछ Charge भी लगा देता है.

आज आपने क्या सिखा

आज का Article हमारा EMI Ka full form क्या होता है इसपर था. इसमे हमनें बहुत सारी बाते सीखी. जैसे की ई एम आई क्या होता है और No Cost EMI क्या होता है ये भी जाना.

अगर आपको EMI Ka full form पर लिखा हुवा Article पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Omkar Pandit

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम Omkar Pandit है और में इस वेबसाइट का Owner हु. अगर आपको मेरे लिखे हुवे Article पसंद आये हो तो इसे आपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे.

Leave a Reply